विजयदशमी अथवा दशहरा पर निबंध | Essay on Dussehra puja, जाने दशहरा पर्व मनाने का पूरा इतिहास

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra\Durga  puja) – दशहरा या विजयदशमी का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। यह त्योहार भारतीय संस्कृति के वीरता का पूजक, शौर्य का उपासक है। आश्विन शुक्ल दशमी को मनाया जाने वाला दशहरा यानी आयुध-पूजा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। व्यक्ति और समाज के रक्त में वीरता प्रकट हो इसलिए दशहरे का उत्सव रखा गया है। यह भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। इसके अलावा, यह सबसे लंबे दिनों तक चलने वाले भारतीय त्योहारों में से एक है। पूरे देश में लोग बड़े उत्साह और प्रेम के साथ दशहरा यानी विजयदशमी मनाते हैं। दशहरा को भारत के कई प्रांतों में विजयदशमी के रूप में भी जाना जाता है। छात्रों को इस त्योहार का पूरा आनंद लेने के लिए अपने स्कूलों और कॉलेजों से दस दिन की लंबी छुट्टियां भी मिलती हैं, जिसका छात्र भरपूर आनंद उठाते हैं। बच्चों को विद्यालयों में दशहरा पर निबंध लिखने को भी कहा जाता है, जिससे उनकी दशहरा के प्रति उत्सुकता बनी रहे और उन्हें दशहरा के बारे में भी पूर्ण जानकारी मिले। ऐसे में दशहरा पर निबंध लिखना व लिखने का तरीका जानना उनके लिए काफी महत्वपूर्ण हो जाता है। दशहरा पर निबंध के इस लेख में हम देखेंगे कि लोग दशहरा कैसे और क्यों मनाते हैं?

ये भी पढ़ें :
हिंदी में निबंध कैसे लिखे (how to write an Essay in Hindi)

कई ऐसे छात्र भी होते हैं, जिनकी हिंदी विषय पर पकड़ कमजोर होती है, ऐसे में उन्हें समझ नहीं आता है कि हिंदी में दशहरा पर निबंध कैसे लिखें या हिंदी में विजयदशमी पर निबंध कैसे लिखें। निम्नलिखित दशहरा पर निबंध, ऐसे छात्रों की सभी समस्याओं को दूर करेगा। हालांकि आप इसे पूरा कॉपी करने से बचे। इसके बदले आप इस निबंध का तरीका समझने की कोशिश कीजिए, जिससे भविष्य में कभी भी दशहरा पर निबंध लिखने में परेशानी का सामना नहीं करना परे।

दशहरा पर 10 पंक्तियाँ याद रखे(Remember 10 Lines on Dussehra)

1) भगवान श्री राम द्वारा रावण के वध की खुशी में दशहरा का त्योहार मनाया जाता है।

2) दशहरा हर वर्ष हिंदी पंचांग के अश्विन माह की शुक्लपक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है।

3) दशहरा को हम सभी विजयादशमी के नाम से भी जानते हैं।

4) अश्विन माह या नवरात्रि में जगह-जगह रामलीला का शोभनीय आयोजन होता है।

5) बुराई पर अच्छाई की जीत की खुशी में इस दिन रावण का पुतला जलाया जाता है।

6) इस दिन को असत्य पर सत्य की जीत के लिए याद किया जाता है।

7) देशभर में दशहरा का भव्य मेला लगाया जाता है जहां लाखों लोग घुमने आते हैं।

8) दशहरा का महत्व इस रूप में भी होता कि मां दुर्गा ने दसवें दिन महिषासुर राक्षस का वध किया था।

9) अलग-अलग राज्यों में कई विशेष तरीकों से दशहरा का महापर्व मनाया जाता है।

10) यूनेस्को द्वारा 2008 में दशहरा को एक सांस्कृतिक विरासत के रूप में अंकित किया गया।

ये भी पढ़ें :
Notes Kaise Banaye ? नोट्स बनाने के फायदे और विधि

प्रस्तावना (Introduction) – दशहरा पर निबंध

विजयदशमी का यह त्यौहार आमतौर पर प्रत्येक वर्ष सितंबर से अक्टूबर के आसपास मनाया जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार यह पर्व आश्विन मास में मनाया जाता है। दशहरा दिवाली से दो या तीन हफ्ते पहले आता है। सनातन/हिन्दू धर्म को मानने वाले सभी लोगों को दशहरा त्योहार का बेसब्री से इंतजार रहता है। दशहरा का त्यौहार सभी के लिए खुशी मनाने का क्षण लेकर आता है। परिवार के सभी लोग मिलकर पूजा के लिए तैयारी करते हैं और ढेर सारी खरीदारी करते हैं।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra)

दशहरा का अर्थ – दशहरा शब्द दो हिंदी शब्दों ‘दस’ और ‘हारा ‘से मिलकर बना है, जहाँ ‘दस’ गणिता के अंक दस (10) और हारा शब्द ‘सत्यानाश/पराजित’ का सूचक है। इसलिए यदि इन दो शब्दों को जोड़ दिया जाए तो ‘दशहरा’ बनता है, जो उस दिन का प्रतीक है जब दस सिर वाले दुष्ट रावण का भगवान राम ने वध किया था।

बुराई पर अच्छाई की जीतदशहरा को भारत के कुछ क्षेत्रों में विजयदशमी के रूप में भी जाना जाता है। यदि हम क्षेत्रीय और जातीय मतभेदों को अलग रखकर विचार करें, तो इस त्योहार के आयोजनों का एक ही मकसद है और वह है बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देना। दूसरे शब्दों में, यह त्योहार बुराई की शक्ति पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। हिंदू पौराणिक कथाओं पर नजर डालें, तो कहा जाता है कि इसी दिन देवी दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस का वध कर दिया था।

अन्य परंपराओं का यह भी मानना है कि भगवान राम ने दशहरा के दिन ही असुरों के महान राजा रावण से युद्ध किया था और उसे पराजित कर के सिद्ध किया था कि बुराई कितनी भी प्रबल क्यों न हो, जीत हमेशा सच्चाई की ही होती है। इससे हमें यह पता चलता है कि दोनों घटनाओं का परिणाम समान है, बुराई पर सच्चाई की जीत निश्चित है। जिसका परिणाम अंधकार पर प्रकाश, झूठ पर सत्य और बुराई पर अच्छाई की हमेशा जीत होती है।

ये भी पढ़ें :
क्या आप भी पढ़ा हुआ भूल जाते है?, तो अपनाएं ये देसी फॉर्मूला

दशहरा समारोह – पूरे भारत में दशहरा के पर्व को बड़े ही उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। भारत में विभिन्न संस्कृतियां होने के बावजूद, यह किसी भी तरह से इस त्योहार के उत्साह को प्रभावित नहीं करती है। दशहरा/विजयदशमी के पूरे त्योहार में सभी का उत्साह और जोश एक समान रहता है।

विजयदशमी के अवसर पर, पश्चिम बंगाल के निवासी बिजॉय दशमी मनाते हैं जो दुर्गा पूजा के दसवें दिन का प्रतीक है। इस दिन, देवी की मूर्तियों को नदी में विसर्जित करने के लिए जुलूस के साथ ले जाया जाता है और उसका विसर्जन किया जाता है। विवाहित महिलाएं भी एक-दूसरे के चेहरे पर सिंदूर लगाती हैं, और एक दूसरे को दावत देती हैं। कुछ जगहों पर इसी दिन शस्त्र पूजा करने की भी परंपरा है।

ये एक धार्मिक और पारंपरिक उत्सव है जिसकी जानकारी प्रत्येक बच्चे को होनी चाहिये। ऐतिहासिक मान्यताओं और प्रसिद्ध हिन्दू धर्मग्रंथ रामायण में ऐसा उल्लेख किया गया है कि भगवान राम ने रावण को मारने के लिये देवी चंडी की पूजा की थी, जिसके बाद ही अमरता का वरदान प्राप्त कर चुके रावण वध करना संभव हो पाया था।

रामलीला का आयोजन – दशहरा राक्षसों के राजा रावण पर भगवान राम की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। लोग दशहरा को दस दिनों तक उनके बीच हुए युद्ध को नाटक के रूप में भी मनाते हैं। इस नाटकीय रूप को राम-लीला कहा जाता है। उत्तर भारत में लोग मुखौटे पहनकर और विभिन्न नृत्य रूपों के माध्यम से राम-लीला का आयोजन करते हैं, साथ ही इसका लुत्फ भी उठाते हैं।

ये भी पढ़ें :
टॉपर अपना टाइम टेबल कैसे बनाते हैं? जाने टाइम टेबल बनाने का सही तरीका 

रावण दहन या लंका दहन – रामायण में कथित छंद का पालन करते हुए, वे रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण जैसे तीन बड़े राक्षसों के विशाल आकार के पुतले बनाते हैं। इसके बाद पुतलों को जलाने के लिए उनमे विस्फोटक पदार्थ भरा जाता है और जमकर आतिशबाजी की जाती है। इस दौरान एक आदमी भगवान राम की भूमिका निभाता है और जलाने के लिए पुतलों पर आग लगे हुए तीर चलाता है। लोग आमतौर पर किसी मुख्य अतिथि को भगवान राम की भूमिका निभाने और उस पुतले को जलाने के लिए आमंत्रित करते हैं। यह आयोजन हजारों दर्शकों के मौजूदगी में खुले मैदान में सुरक्षा को ध्यान में रख कर किया जाता है। हर उम्र के लोग इस मेले का लुत्फ उठाने के लिए यहाँ उपस्थित होते हैं। बच्चे इस आयोजन का सबसे ज्यादा इंतजार करते हैं।

दशहरा का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। रावण दहन का यह कार्यक्रम लोगों को एकजुट करता है, क्योंकि इसके दर्शक न कि केवल हिंदू धर्म से बल्कि सभी धर्म के लोग होते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दशहरा हमें सिखाता है कि अच्छाई हमेशा बुराई को मात देती है और प्रकाश हमेशा अंधेरे पर विजय प्राप्त करता है।

हमें जरुरत है अपने अंदर के रावण को मारने की न की रावण के पुतले को जलाने की (We need to kill the Ravan inside us and not burn the effigy of Ravan)

हम बाहर रावण का पुतला तो जलाकर ये बता देते हैं कि बुराई की हमेशा हार और सचाई की हमेशा जीत होती है, लेकिन अपने अंदर के बुराई को खत्म करने के बारे में नहीं सोचते। विजयादशमी बहुत ही शुभ और ऐतिहासिक पर्व है। लोगो को इस दिन अपने अंदर के रावण पर विजय प्राप्त कर खुशी के साथ यह पर्व मनाना चाहिए। वो सतयुग का दौर था जिसमें केवल एक रावण का अस्तित्व था जिसपर भगवान राम ने विजय प्राप्त की थी, पर यह तो कलयुग है जिसमे हर घर में रावण छुपा बैठा है। इतने रावण पर विजय प्राप्त करना आसान नहीं है। जिस प्रकार एक दीपक की रोशनी अंधकार का नाश करने के लिए काफी होती है, ठीक उसी प्रकार एक अच्छी विचारधारा वाली सोच ही काफी है अपने अंदर के रावण का नाश करने के लिए।

ये भी पढ़ें :
2023 बोर्ड परीक्षा में आंसर कैसे लिखें?

उपसंहार (Conclusion) – दशहरा

विजयदशमी मनाने के पीछे राम लीला का उत्सव पौराणिक कथाओं को इंगित करता है। ये सीता माता के अपहरण के पूरे इतिहास को बताता है, असुर राजा रावण, उसके पुत्र मेघनाथ और भाई कुम्भकर्ण की हार और अंत तथा राजा राम की जीत को दर्शाता है। और हिन्दू धर्मग्रंथ रामायण के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि देवी दुर्गा को प्रसन्न करने और वर प्राप्ति के लिए भगवान श्री राम ने चंडी होम कराया था। दशहरा को दुर्गोत्सव भी कहा जाता है क्योंकि लोगों का ऐसा मानना है कि युद्ध के दसवें दिन माता दुर्गा ने भी महिषासुर नामक दुष्ट असुर का वध किया था। विजयादशमी का पर्व लोगों के मन में नई ऊर्जा, बुराई पर अच्छाई की जीत की सीख, लोगों के मन में नई चाह और सकारात्मक ऊर्जा भी लेकर आता है। भगवान श्री राम ने रावण का अंत कर बुराई पर विजय प्राप्त की और माँ दुर्गा ने महिषासुर को मारकर बुराई का अंत किया। 9 दिन देवी माँ के पूजा अर्चना के बाद यह विजयादशमी आती है। इस दिन सबके घरों में पकवान आदि बनाए जाते है।

Frequently Asked Question (FAQs) – विजयदशमी अथवा दशहरा 

Q: दशहरा का क्या अर्थ है?
Ans: दशहरा का अर्थ: दशहरा शब्द दो हिंदी शब्दों ‘दस’ और ‘हारा ‘से मिलकर बना है, जहाँ दस’ का अर्थ दस (10) और हारा का मतलब सत्यानाश/पराजित है।

Q: 2023 मे दशहरा कब है ?

Ans: 2023 मे दशहरा 24 october को है |

Topic related link :-

Topic wise Quiz Click here
essay on children’s day Click here
Essay on Hindi Diwas Click here
Essay on Raksha Bandhan Click here
Essay on Christmas Click here
Telegram Channel Click here

Related posts:

Bihar Board 12th Hindi Syllabus । बिहार बोर्ड कक्षा 12वी हिंदी पाठ्यक्रम, अंकन योजना और परीक्षा पैटर...
Bihar Board Class 12 Biology Question Paper 2024 Last Minute
जानें कैसे करनी होगी तैयारी जिससे Physics लगने लगे Easy : Bihar Board Exam 2024
बाल दिवस पर निबंध | essay on children's day, जाने बाल दिवस की पूरी जानकारी
बिहार में साक्षरता दर क्या है ? Bihar Ki Saksharta Dar ? बिहार राज्य की साक्षरता दर क्या है ?
Bihar board Class 12th English Chapter 1, Indian Civilization And Culture Summary in Hindi And Engli...
BiharBoardExam2024: Latest News; जाने कितने छात्र हुए Exam से बाहर
HAPPY NEW YEAR 2024:चूहा निकला बिल से हैप्पी न्यू ईयर दिल से...यहां देखें हैप्पी न्यू ईयर 2024 wishe...
Bihar Board Exam Me Copy Kaise Likhe ? बोर्ड परीक्षा में कॉपी लिखने का सही तरीका जाने
BSEB Board: 10th के Science पेपर में पूछे गए थे ये Questions, इस बार इनसे मिलते-जुलते आ सकते हैं Que...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *